Current Affairs 2022

Current Affairs 2022 : 02-अगस्त-2022 के करेंट अफेयर्स

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

Current Affairs 2022 :- Welcome to the FormsNotice.Com which provides you with the best compilation of the Daily Current Affairs 2022 taking place across the globe: National, International, Sports, Science and Technology, Banking, Economy, Agreement, Appointments, Ranks and Report and General Studies. Formsnotice has been a fantastic buddy in assisting you in reaching your full potential in terms of knowledge and learning by providing you with the top academic information

Current Affairs is a major part of the exams like UPSC, UPSC CSE, IBPS, SBI, RBI, SSC, Railway, UPPSC, RPSC, BPSC, MPPSC, TNPSC, UKPSC, APPSC, MPSC etc. Many Govt job aspirants have benefited from our Current Affairs Section now it’s your turn.

कारगिल के द्रास सेक्टर की प्वाइंट 5140 पहाड़ी को ‘गन हिल’ नाम दिया गया

Table of Contents

भारतीय सशस्त्र बलों की जीत का जश्न मनाने और ‘ऑपरेशन विजय’ में सैनिकों के सर्वोच्च बलिदान को श्रद्धांजलि देने के लिए करगिल के द्रास में ‘प्वाइंट 5140’ को ‘गन हिल’ नाम दिया गया है। एक रक्षा प्रवक्ता ने शनिवार को ये जानकारी देते हुए कहा कि घातक गोलाबारी के साथ तोपखाना रेजिमेंट दुश्मन सैनिकों पर भारी पड़ी, जिसमें प्वाइंट 5140 भी शामिल था, जो 1999 के करगिल युद्ध में अभियान को जल्दी पूरा करने में महत्वपूर्ण साबित हुआ।

गौरतलब है कि 26 जुलाई 1999 को भारतीय सेना ने लद्दाख में करगिल की बर्फीली चोटियों पर पाकिस्तानी सैनिकों के साथ लगभग तीन महीने की लंबी लड़ाई के बाद जीत की घोषणा की। इसी के साथ ‘ऑपरेशन विजय’ का सफल समापन हुआ। 

प्वाइंट 5140 क्या है?

प्वाइंट 5140 तोलोलिंग कॉम्प्लेक्स में दुश्मन के कब्जे वाली सबसे ऊंची चौकी थी। 13 जेएके आरआईएफ की एक कंपनी प्वाइंट 5140 की ओर बढ़ी, जो दुश्मन द्वारा बड़ी संख्या में ऑटोमेटिक हथियारों के साथ मजबूती से गढ़ी गई स्थिति थी। कैप्टन विक्रम बत्रा ने मोर्चे का नेतृत्व किया और प्वाइंट 5140 पर दुश्मन के ठिकानों पर हमला किया। उन्होंने दुश्मन पर एक साहसी हमला किया और खुद चार को आमने-सामने की लड़ाई में मार गिराया। भारी लड़ाई के बाद, प्वाइंट 5140 को अंततः 20 जून को 0330 घंटे तक कब्जा कर लिया गया।

उपराष्ट्रपति नायडू ने तमिलनाडु पुलिस को ‘प्रेसिडेंट्स कलर्स’ प्रदान किया

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु पुलिस को प्रतिष्ठित ‘राष्ट्रपति निशान’ (प्रेसिडेंट्स कलर्स) प्रदान किया और कहा कि यह राज्य पुलिस की सराहनीय सेवा और कई उपलब्धियों का सम्मान है। नायडू ने यहां एक समारोह में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन को ‘राष्ट्रपति निशान’ भेंट किया।

मुख्य बिंदु

  • स्टालिन ने कहा कि तमिलनाडु पुलिस को इस सम्मान से सर्वोच्च मान्यता मिली है और यह न केवल पुलिस विभाग, बल्कि पूरे राज्य के लिए सम्मान की बात है।
  • ‘राष्ट्रपति निशान’, देश के लिए कम से कम 25 वर्षों की असाधारण सेवा के सम्मान में किसी भी सैन्य/राज्य पुलिस को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है। 
  • यह सम्मान बहादुरी, साहस, प्रतिबद्धता, व्यावसायिकता, अखंडता और मानवता की सेवा की भावना को दर्शाता करता है।

अपने संबोधन में कहा कि यह वास्तव में प्रत्येक तमिल के लिए गर्व का क्षण है और मैं भारत के सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर की ओर से तमिलनाडु पुलिस को यह सम्मान देने के लिए बहुत खुश और सौभाग्यशाली महसूस कर रहा हूं।

संजय अरोड़ा होंगे दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर

आईपीएस संजय अरोड़ा दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर बन गए हैं। संजय अरोड़ा तमिल नाडु कैडर के 1998 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। संजय अरोड़ा आईटीबीपी के डीजी के पद से कार्यमुक्त होकर 01 अगस्त 2022 से बतौर दिल्ली पुलिस कमिश्नर अपना पद संभालेंगे। इनसे पहले राकेश अस्थाना इस पद पर नियुक्त थे।

संजय अरोड़ा के बारे में

  • मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले संजय अरोड़ा ने इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की पढ़ाई मालवीय नेशनल इंस्टीट्यूट जयपुर से की है। 
  • लोक सेवा में आने के बाद उन्होंने तमिलनाडु में कई महत्वपूर्ण पदों पर सेवाएं दीं। इस दौरान डकैत वीरप्पन के गिरोह का भंडाफोड़ करने वाले स्पेशल टास्क फोर्स में भी अरोड़ा एसपी थे। 
  • उनकी टीम को मिली सफलता के लिए उन्हें सीएम गैलंट्री मेडल से सम्मानित किया गया था।
  • साल 1991 में संजय अरोड़ा ने एनएसजी से ट्रेनिंग ली थी। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात एसएसजी के गठन में भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
  • आईटीबीपी के साथ अपने कार्यकाल के दौरान, वे 2000 से 2002 तक मसूरी में अकादमी में प्रशिक्षक भी थे। 
  • वे कोयंबटूर शहर में पुलिस के प्रमुख बने और चेन्नई में अपराध और यातायात के लिए अतिरिक्त आयुक्त भी रहे।
  • संजय अरोड़ा को 2004 में सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक, 2014 में विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक, पुलिस विशेष कर्तव्य पदक, आंतरिक सुरक्षा पदक और संयुक्त राष्ट्र शांति पदक सहित अन्य से पदकों से सम्मानित किया जा चुका है।

पेरिस ओलंपिक 2024 के आधिकारिक नारे के रूप में ‘गेम्स वाइड ओपन’ का अनावरण किया गया

2024 के पेरिस ओलंपिक के आयोजकों ने अपने आधिकारिक नारे के रूप में “गेम्स वाइड ओपन” का अनावरण किया है। यह नारा एक वीडियो के साथ जारी किया गया है, जिसमें ओलंपिक और पैरालिंपिक का वादा “तेज”, “उच्च” और “मजबूत” होगा – साथ ही साथ “अधिक समावेशी, अधिक भाई, अधिक सुंदर” शामिल है। 

पेरिस 2024 में तीसरी बार ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की मेजबानी करेगा, जो 1924 में पिछले पेरिस खेलों की शताब्दी वर्ष भी है। फ्रांसीसी राजधानी पेरिस 1900 में आधुनिक ओलंपिक खेलों के दूसरे संस्करण का मेजबान शहर भी था। पेरिस ओलंपिक 2024 खेल 26 जुलाई से 11 अगस्त तक होने वाले हैं और एथलीट कुल 32 खेलों में भाग लेंगे, जिसमें 329 स्पर्धाएं शामिल हैं।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य:

  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति मुख्यालय: लॉज़ेन, स्विटज़रलैंड;
  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष: थॉमस बाख;
  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की स्थापना: 23 जून 1894, पेरिस, फ्रांस।

जिम्बाब्वे ने मुद्रास्फीति से निपटने के लिए सोने के सिक्कों को कानूनी निविदा के रूप में लॉन्च किया

ज़िम्बाब्वे ने देश की अस्थिर मुद्रा को और खराब करने वाली भगोड़ा मुद्रास्फीति को कम करने के लिए जनता को बेचे जाने वाले सोने के सिक्के लॉन्च किए हैं। स्थानीय मुद्रा में विश्वास बढ़ाने के लिए देश के केंद्रीय बैंक, जिम्बाब्वे के रिजर्व बैंक द्वारा अभूतपूर्व कदम की घोषणा की गई थी।

सोने के इन सिक्कों को “मोसी-ओ-तुन्या” (Mosi-oa-tunya) नाम दिया गया है। 22 कैरेट सोने के इन सिक्कों पर विक्टोरिया फॉल्स की तस्वीर बनी हुई है। सिक्कों की तरल संपत्ति की स्थिति होगी ताकि उन्हें आसानी से नकदी में परिवर्तित किया जा सके और स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापार किया जा सके। लॉन्च के समय एक सिक्के की कीमत 1,824 डॉलर थी।

मुख्य बिंदु

  • पिछले दस वर्षों से मुद्रास्फीति के गंभीर स्तरों के परिणामस्वरूप जिम्बाब्वे ने स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए कई तरह के तरीकों की कोशिश की है। 
  • आईएमएफ के अनुसार, 2008 में हाइपरइन्फ्लेशन से लोगों की बचत 5 बिलियन तक पहुंच जाने के बाद जिम्बाब्वे की मुद्रा में विश्वास कम है।
  • ज़िम्बाब्वे की शुरुआत ब्रिटिश किरीट उपनिवेश के एक भाग रोडेशिया के रूप में हुई। 
  • राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे राष्ट्र प्रमुख और सशस्त्र बलों के सेनानायक हैं। मॉर्गन स्वानगिरई प्रधानमंत्री है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से मुगाबे देश की सत्ता पर काबिज हैं।

विधानसभा बैठकों के मामले में केरल शीर्ष पर

कोरोना कहर के पहले चरण में ठप पड़ी जिंदगी की वजह से 2020 में विधानसभा सत्र की बैठकों के लिहाज से देश भर में केरल आठवें स्थान पर था। अब वह फिर शीर्ष पर लौट आया है। 2021 में केरल विधानसभा सत्र में कुल 61 दिन काम हुआ, जो समग्र देश में सबसे अधिक है। यहां यह नहीं भूलना चाहिए कि 2021 में भी कोरोना की दूसरी लहर अपने चरम पर थी। यही नहीं साल 2016 से साल 2019 के बीच भी केरल विधानसभा बैठकों के मामले में शीर्ष पर रहा। इस अवधि में औसतन 53 दिन सत्र चला. यह आंकड़े पीआरएसइंडिया डॉट ऑर्ग ने जुटाए हैं।

केरल में 2016 से एलडीएफ यानी लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट की सरकार है। 2021 में केरल विधानसभा ने 144 अध्यादेशों की घोषणा की। संख्या के लिहाज से यह भी देश में सबसे ज्यादा हैं। प्रख्यापित अध्यादेश के तहत राज्य सरकार कुछ नियमों की घोषणा कर देती है। ऐसा तब किया जाता है जब विधानसभा के दो सत्रों के बीच समय होता है और उस अवधि में कुछ महत्वपूर्ण कार्य करने होते हैं।

मुख्य बिंदु

  • दिल्ली के थिंक टैंक पीआरएस लेजिसलेटिव रिसर्च (पीआरएस) ने 2021 के लिए राज्य और केंद्र शासित प्रदेश वार विधानसभा सत्र और उसमें हुए काम के आधार पर विभिन्न राज्यों की रेटिंग दी है। 
  • इसमें केरल शीर्ष पर है, जबकि उसके बाद ओडिशा (43 दिन), कर्नाटक (40 दिन) औऱ तमिलनाडु (34 दिन) का नंबर आता है। हालांकि शीर्ष तीन राज्य हालिया 21 दिन की बैठकों के पैमाने से काफी नीचे हैं। 
  • 28 विधानसभा और एक केंद्र शासित विधानसभा में 17 तो 20 दिन से कम समय के लिए आहूत हुई। इनमें भी पांच क्रमश आंध्र प्रदेश, नगालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा औऱ दिल्ली में 10 दिन से कम बैठक हुईं। 
  • उत्तर प्रदेश, मणिपुर और पंजाब विधानसभा की क्रमशः 17, 16 और 11 बैठक रिकॉर्ड की गईं।

इंग्लैंड ने महिला यूरो चैंपियनशिप जीती

इंग्लैंड ने अतिरिक्त समय तक चले मैच में जर्मनी को 2-1 से हराकर महिला यूरोपीय चैंपियनशिप फुटबॉल प्रतियोगिता का खिताब जीता।जब लग रहा था कि इंग्लैंड उम्मीदों के दबाव में आ जाएगा तब चोले केली ने 110वें मिनट में गोल दागा जो निर्णायक साबित हुआ। केली के गोल के पहले इंग्लैंड के खिलाड़ी काफी थके हुए नजर आ रहे थे और उन्हें जर्मनी के स्थानापन्न खिलाड़ियों के सामने जूझना पड़ रहा था।

निर्धारित समय तक मैच 1-1 से बराबरी पर था। इंग्लैंड की तरफ से इला टूने ने 62वें मिनट में गोल किया जबकि जर्मनी के लिये लिना मागुल ने 79वें मिनट में बराबरी का गोल दागा। वेम्बली स्टेडियम में जर्मनी की लीना मैगल और इंग्लैंड की एला टून के गोलों की बदौलत 90 मिनट के बाद स्कोर 1-1 से बराबर हो गया। परिणाम एक्स्ट्रा टाइम में तय किया गया।

अमित शाह ने मादक पदार्थों की तस्करी पर सम्मेलन का उद्घाटन किया

केन्द्रीय मंत्री अमित शाह ने मादक द्रव्यों की तस्करी और नशे की लत की त्रासदी से निपटने के लिए संबद्ध एजेंसियों और सभी राज्यों से एक साथ आने का आह्वान किया है। केन्द्रीय मंत्री ने इस संबंध में विभिन्न एजेंसियों और राज्यों के बीच समन्वय पर जोर देकर कहा कि मादक द्रव्यों से छुटकारा पाने के लिए गृह मंत्रालय अन्य मंत्रालयों और सभी संबंधितों के साथ समन्वय बनाने पर काम कर रहा है।

शाह के साथ, राष्ट्रीय सम्मेलन में अन्य वक्ताओं में बनवारीलाल पुरोहित, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा के मुख्यमंत्री, जम्मू और कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर और केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री शामिल थे। अमित शाह चंडीगढ़ में मादक द्रव्यों की तस्करी और राष्ट्रीय सुरक्षा पर एक राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य:

  • केंद्रीय गृह मंत्री: श्री अमित शाह
  • पंजाब के मुख्यमंत्री: श्री भगवंत मन्नी
  • हरियाणा के मुख्यमंत्री: श्री मनोहर लाल खट्टर
  • जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल: श्री मनोज सिन्हा

विश्व स्तनपान सप्ताह 2022 : 01 – 07 अगस्त

विश्व स्तनपान सप्ताह 2022 हर साल अगस्त के पहले सप्ताह में माताओं और शिशुओं के लिए स्तनपान के महत्व पर जागरूकता बढ़ाने को मनाया जाता है। यह दिवस 1 से 7 अगस्त के बीच मनाया जाता है। यूनिसेफ की रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया के कुल शिशुओं में से लगभग 60 प्रतिशत को 6 महीने तक जरूरी ब्रेस्टफीडिंग नहीं मिलती है।

वर्ल्ड ब्रेस्टफीडिंग वीक का महत्व 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा जारी जानकारी के अनुसार, बाल अधिकारों पर कन्वेंशन के अनुसार प्रत्येक नवजात शिशु को अच्छे पोषण का अधिकार है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा विश्व स्तर पर साल 2016 में एकत्र किए गए आंकड़ों के अनुसार, दुनिया में 41 मिलियन बच्चे मोटापे से ग्रस्त हैं, जबकि 5 वर्ष से कम उम्र के 155 मिलियन बच्चों के अविकसित (उम्र के हिसाब से बहुत कम) होने का अनुमान है।

स्तनपान के बारे में

स्तनपान हर बच्चे को जीवन में सर्वोत्तम संभव शुरुआत प्रदान करता है। यह बच्चों और माताओं दोनों को स्वास्थ्य, पोषण और भावनात्मक लाभ प्रदान करता है। यह एक स्थायी खाद्य प्रणाली का हिस्सा है।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य:

  • वर्ल्ड एलायंस फॉर ब्रेस्टफीडिंग एक्शन मुख्यालय का स्थान: पिनांग, मलेशिया;
  • वर्ल्ड एलायंस फॉर ब्रेस्टफीडिंग एक्शन के संस्थापक: अनवर फज़ल;
  • वर्ल्ड एलायंस फॉर ब्रेस्टफीडिंग एक्शन चेयरपर्सन: फेलिसिटी सैवेज;
  • वर्ल्ड एलायंस फॉर ब्रेस्टफीडिंग एक्शन की स्थापना: 14 फरवरी 1991।

भारोत्तोलक अचिंता शुली ने जीता स्वर्ण पदक

भारत के युवा वेटलिफ्टर अचिंत शुली ने पुरुषों के 73 किलोग्राम भारवर्ग में गोल्ड मेडल जीता। कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में यह भारत का छठा मेडल है। खेलों में भारत का तीसरा गोल्ड मेडल है। अचिंत से पहले जेरेमी लालरिनुंगा और मीराबानू चानू ने भारत को स्वर्ण पदक दिलाया है। शुली ने पुरुषों के 73 किग्रा वर्ग में कुल 313 किग्रा के नए रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण हासिल किया। उन्होंने स्नैच में 143 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 170 किग्रा भार उठाकर मलेशिया के एरी हिदायत मुहम्मद को पीछे छोड़ा। 

मलेशियाई खिलाड़ी ने कुल 303 किग्रा वजन के साथ रजत पदक जीता, जबकि कनाडा के एस डार्सिग्नी ने कुल 298 किग्रा के साथ कांस्य पदक जीता। वेटलिफ्टिंग इवेंट में ये भारत का अब तक का तीसरा गोल्ड मेडल रहा। इससे पहले मीराबाई चानू, संकेत, गुरुराज, बिंदिया और जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को मेडल दिलाया था। इसमें से मीराबाई और जेरेमी ने गोल्ड मेडल जीतने में सफलता हासिल की थी और इसके बाद अचिंता ने भी गोल्ड मेडल जीता। वेटलिफ्टिंग इवेंट में ये भारत का अब तक का तीसरा गोल्ड मेडल रहा। 

अचिंता शुली के बारे में

अचिंता शुली ने इससे पहले कामनवेल्थ वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में साल 2019 में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता था जबकि साल 2021 में इसी इवेंट में उन्होंने फिर से देश के लिए गोल्ड मेडल जीता था। वहीं इससे पहले उन्होंने जूनियर वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में 2021 में ही 73 किलो भारवर्ग प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था। 

जेरमी लालरिनुंगा ने पुरुषों की 67 किग्रा भारवर्ग स्पर्धा में जीता गोल्ड

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारतीय भारोत्तोलकों का बेहतरीन प्रदर्शन जारी है। भारत को खेलों के तीसरे दिन जेरमी लालरिनुंगा ने दूसरा स्वर्ण पदक दिलाया। उन्होंने पुरुषों की 67 किग्रा भारवर्ग स्पर्धा में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इसके साथ ही भारत के पदकों की संख्या 5 हो गई है। इसमें 2 स्वर्ण, 2 रजत और 1 कांस्य पदक हैं। पांचों पदक भारत के लिए वेटलिफटर्स ने ही जीते हैं। 

भारोत्तोलक जेरमी लालरिनुंगा कुल 300 किलोग्राम वजन उठाकर पहले स्थान पर रहे। स्नेच राउंड में वो 140 किग्रा वजन उठाकर पहले स्थान पर रहे और 10 किलो की बढ़त हासिल कर ली। इसके बाद क्लीन एंड जर्क में उन्होंने 160 किग्रा भार उठाकर अपने नाम स्वर्ण पदक कर लिया। हालांकि इस राउंड में वो दूसरे स्थान पर रहे लेकिन दोनों राउंड में सबसे ज्यादा वजन उठाकर उन्होंने गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया।  जेरमी लालरिनुंगा ने स्नेच और क्लीन एंड जर्क राउंड में नया गेम्स रिकॉर्ड कायम किया। 

मीराबाई चानू ने जीता स्वर्ण पदक

इससे पहले टोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता मीराबाई चानू ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया था। 49 किलोग्राम भारवर्ग में चानू ने स्वर्ण पदक हासिल करके सबकी उम्मीदों को सही साबित किया था। उन्होंने स्नैच में 88 किलो जबकि क्लीन एंड जर्क में 113 किलो का भार उठाया था।

2022 में भारत को पहला पदक

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत को पहला पदक भारोत्तोलन में संकेत महादेव सरगर ने दिलाया था। महाराष्ट्र के सांगली में जन्में संकेत ने 55 किलोग्राम भारवर्ग में 248 किलो का भार उठाते हुए भारत को रजत पदक दिलाया था।

Important Links

For More JobsCLICK HERE
To Join Our WhatsApp GroupCLICK HERE
To Join Our Telegram GroupCLICK HERE

Leave a Comment

Government Jobs

State Jobs

Private Job

Request For Post


x